Religious

Kojagara Puja 2022 Kab Hai Date Laxmi Night Puja Muhurat Vidhi Importance

[ad_1]

Kojagar Puja 2022, Sharad Purnima: शरद पूर्णिमा साल की सभी पूर्णिमा में विशेष महत्व रखती है. अश्विन माह की पूर्णिमा यानी कि शरद पूर्णिमा पर खासतौर पर कोजागर पूजा की जाती है. कोजागर पूजा में मां लक्ष्मी की आराधना का विधान है. कोजागर पूजा का पर्व पश्चिम बंगाल, बिहार, असम और उड़ीसा में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. इसमें मध्यरात्रि में मां लक्ष्मी की उपासना कर देवी को प्रसन्न किया जाता है. आइए जानते हैं कोजागर पूजा की डेट, मुहूर्त और महत्व.

कोजागर पूजा 2022 कब ?

कोजागर पूजा इस साल 9 अक्टूबर 2022 को है. धार्मिक मान्यता है कि शरद पूर्णिमा पर मां लक्ष्मी भ्रमण के लिए निकलती हैं. ऐसे में इस दिन व्रत रखकर देवी की रात्रि में आराधना करने से वह खुश होकर जातक पर कृपा बरसाती है.

कोजागर पूजा 2022 मुहूर्त (Kojagar Puja 2022 muhurat)

अश्विन शुक्ल पक्ष की  पूर्णिमा यानी कि शरद पूर्णिमा तिथि 9 अक्टूबर 2022 को सुबह 03 बजकर 41 मिनट से शुरू होगी. पूर्णिमा तिथि अगले दिन 10 अक्टूबर 2022 को सुबह 02 बजकर 25 मिनट पर समाप्त होगी.

कोजागर पूजा मुहूर्त – 9 अक्टूबर 2022,  रात 11.50 – 10 अक्टूबर 2022, प्रात: 12.30

अवधि – 49 मिनट

कोजागरी पूजा महत्व (Kojagar Puja Importance)

पौराणिक मान्यता के अनुसार शरद पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी समुद्र मंथन के समय प्रकट हुई थीं, इसलिए शरद पूर्णिमा का त्योहार मां लक्ष्मी के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है. कहते हैं कि इस दिन रात में जागरण कर माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा करने धन-धान्य की कोई कमी नहीं आती. कहते हैं शरद पूर्णिमा की रात अमृत बरसता है, इसलिए रात में चंद्रमा की रोशनी में खीर रखी जाती है. फिर इसका माता लक्ष्मी को भोग लगाया जाता है. मान्यता है ऐसा करने पर घर में सदा बरकत बने रहने का आशीर्वाद मिलता है. आर्थिक तंगी से परेशान लोगों को कोजागरी पूजा जरुर करनी चाहिए.

Diwali 2022: दिवाली से पहले घर से निकाल दें 5 अशुभ चीजें, मां लक्ष्मी होती है नाराज

Karwa Chauth 2022: करवा चौथ पर सरगी की थाल में जरूर होना चाहिए 5 चीजें, जानें मुहूर्त और नियम

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें. 

[ad_2]

Source link