Religious

Karva Chauth 2022 | ‘करवा चौथ’ के दिन ये चीज़ें भूलकर भी न खरीदें, लेकिन ‘इस’ फूल के पौधे लगाने से महक उठेगा वैवाहिक जीवन

[ad_1]

Today is Karva Chauth, know the auspicious time of worship - rules and stories

सीमा कुमारी

नई दिल्ली: इस साल करवा चौथ  (Karwa Chauth) का पावन व्रत 13 अक्टूबर,दिन गुरुवार को है। इस त्योहार को लेकर सुहागिन महिलाओं में एक अलग ही उमंग व उत्साह देखी जाती है। नवरात्र समाप्त होते ही महिलाएं करवा चौथ की तैयारियों में लग जाती हैं। शास्त्रों के अनुसार, इस दिन कुछ चीजें खरीदकर घर लाना बहुत शुभ होता हैं। कहते हैं इससे करवा माता प्रसन्न होती हैं और वैवाहिक जीवन खुशियों से भर जाता हैं। आइए जानें करवा चौथ पर क्या खरीदें और क्या नहीं-

ज्योतिष-शास्त्र के अनुसार, लाल रंग सुहाग का प्रतिनिध्त्व करता हैं। ऐसे में ‘करवा चौथ’ व्रत पर लाल चूड़ियां खरीदना सौभाग्य में वृद्धि करता है। चूड़ियां गोल होने के कारण बुध और चंद्रमा का प्रतीक है। कांच की चूड़ियों को पवित्र और शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि, कांच की चूड़ियां पहनने और उससे आने वाली आवाज से आसपास की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है।

शास्त्रों के अनुसार, करवा चौथ वाले दिन नई चांदी की बिछिया खरीदकर पहनना बहुत शुभ होता है। इससे करवा माता बहुत प्रसन्न होती हैं, क्योंकि बिछिया सुहाग का प्रतीक है, और इससे पति का सौभाग्य जुड़ा होता है। ऐसे में इस दिन चांदी की बिछिया खरीदकर पहनना बहुत शुभ होता है।

यह भी पढ़ें

वास्तु के अनुसार, रजनीगंधा का पौधा पति-पत्नी के रिश्ते में मिठास लाने के लिए बहुत प्रभावी माना गया है। ‘करवा चौथ’ के दिन इसे घर में लगाने से नीरस वैवाहिक जीवन फिर से प्यार की खुशबू फैलने लगती है। इसे घर की उत्तर दिशा में लगाएं।

ज्योतिष-शास्त्र के अनुसार, मोरपंख को प्यार का प्रतीक माना जाता है। कहते हैं, ‘करवा चौथ’ (Karwa Chauth) वाले दिन इसे घर लाना बहुत शुभ होता है। इसे बेडरूम की दीवार पर, या किसी ऐसे स्थान पर लगाएं, जहां पति-पत्नी की नजर पड़ सके।

क्या न खरीदें 

सुहागिन महिलाओं को करवा चौथ के व्रत वाले दिन सफेद रंग के कपड़े या इस रंग से जुड़ी कोई भी श्रृंगार की चीजें न खरीदें। सफेद रंग वस्त्र या चूड़ी भी पूजा में शामिल न करें ।

व्रती को इस दिन धार वाली चीजें जैसे चाकू, कैंची, सुई भी नहीं खरीदना चाहिए। ऐसा करना अशुभ माना जाता है।इसलिए ऐसी गलती भूल से भी न करें।



[ad_2]

Source link