Religious

राहु के नक्षत्र में शनि का प्रवेश, अगले 7 माह तक मेष-कर्क, कन्या-कुंभ और मीन वाले सही काम करके भी फंसेंगे बुरे

[ad_1]

Shani Nakshatra Parivartan 2023: मार्च महीने में एक के बाद एक ग्रह अपनी चाल बदल रहे है. वहीं शनि और राहु-केतु को खतरनाक ग्रह माने जाते है. शनि ग्रह ढाई साल में एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करते हैं. लेकिन, शनि राशि परिवर्तन के साथ ही नक्षत्र परिवर्तन भी करते हैं. शनि 15 मार्च 2023 को शतभिषा नक्षत्र के प्रथम चरण में प्रवेश कर चुके है. शनि इस नक्षत्र में 17 अक्टूबर 2023 को दोपहर 1 बजकर 37 मिनट तक रहेंगे. फिलहाल शनि राहु के नक्षत्र में विराजमान है. शतभिषा नक्षत्र में शनि के विराजमान होने से सभी 12 राशियों के जातक प्रभावित होंगे. मेष-कर्क, कन्या-कुंभ और मीन राशि के जातक को शनि और राहु-केतु के नकारात्मक परिणामों का सामना करना पड़ेगा. ज्योतिषीय गणना के अनुसार इन राशि के जतक पर शनि नक्षत्र परिवर्तन का प्रभाव अगले सात महीने तक रहेगा.

मेष राशि- नया व्यवसाय शुरू करने या अपने मौजूदा व्यवसाय का विस्तार करने के इच्छुक लोगों के लिए यह बहुत बेहतर समय होगा. वहीं करियर ग्रोथ की तलाश कर रहे लोगों को अपने सभी प्रयासों में सफलता मिलेगी. क्योंकि शनि अपनी मूलत्रिकोण राशि में है. मेष राशि के जातकों को शनि की कृपा से आर्थिक लाभ होगा. लेकिन, कई जगहों पर इनकी मुश्किलें बढ़ जाएगी. मेष राशि वाले जातक को सही काम करने के बाद भी विरोध का सामना करना पड़ेगा. आपको प्रेम संबंधी मामलों में सावधानी बरतने की ज़रूरत है. क्योंकि 5 वें घर पर शनि की दृष्टि से आपको सावधान रहने की आवश्यकता होगी. क्योंकि विवाद हो सकते हैं. अगर आप अपने पार्टनर को धोखा दे रहे हैं तो आप निश्चित रूप से रंगेहाथ पकड़े जाएंगे.

कन्या राशि – कन्या राशि वालों के लिए शनि छठे भाव में रहेगा. कार्यक्षेत्र में इस दौरान परिवर्तन हो सकता है. आकर्षक नौकरी मिलने की संभावनाएं अधिक हैं. काम का बढ़ा हुआ बोझ कन्या राशि के जातकों को तनाव में डालेगा. इसके साथ ही कुछ अन्य कारणों से तनाव महसूस कर सकते हैं. कई कारणों से आपकी मश्किलें बढ़ सकती है. आंख बंद कर किसी पर भरोसा न करें. लेन-देन करते समय सावधानी बरतें.

कर्क राशि- शनि का नक्षत्र परिवर्तन कर्क राशि के जातकों के लिए थोड़ा मुश्किल होगा, खासकर आपके करियर के लिहाज से जो लोग निजी क्षेत्र में काम कर रहे हैं. उन्हें वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए अधिक प्रयास करने होंगे. इस बात की संभावना है कि कुछ लोग अपनी नौकरी खो सकते हैं या कार्यस्थल पर राजनीति का सामना कर सकते हैं. इसलिए काम सावधानी से और सावधानी से किया जाना चाहिए.

कुंभ राशि- अधिक काम के दबाव का अनुभव करने वाले हैं, क्योंकि साढ़े साती का दूसरा चरण एक कठिन समय है. सहकर्मियों से सहयोग की कमी रहेगी. यह सलाह दी जाती है कि आप कुछ समय के लिए अपनी वर्तमान स्थिति पर बने रहें. अगर आप अपना काम छोड़ना चाहते हैं तो भी गति स्थिर रखें. कंपनी में नया निवेश करते समय बुद्धिमान और सतर्क रहना चाहिए. जो लोग व्यापारिक साझेदारी में हैं, उनके लिए कुंभ राशि में शनि गोचर के दौरान तनाव उत्पन्न हो सकता है.

मीन राशि – नौकरी या व्यवसाय करने वाले जातकों के लिए यह अवधि असफलता का समय होने वाला है. क्योंकि आपकी साढ़े साती शुरू हो चुकी है. आप कार्यस्थल पर दबाव महसूस करते हैं. नौकरी के लिए जातक को विदेश या देश के भीतर यात्रा करनी पड़ सकती है. नए व्यवसाय शुरू करने पर रोक लगाना सबसे अच्छा है. आपके लिए नौकरी बदलना या किसी नए स्थान पर स्थानांतरित होना संभव है.

आपका दिन मंगलमय हो

ज्योतिषाचार्य संजीत कुमार मिश्रा

ज्योतिष , वास्तु एवं रत्न विशेषज्ञ

मो. 8080426594/9545290847

[ad_2]

Source link