Mirganj News

Mirganj News मीरगंज  विकसित होगा औद्योगिक नगरी के रूप में

मीरगंज शहर Mirganj City स्थित हथुआ चीनी मिल Hathua Sugar Mill की 40 एकड़ जमीन पर एलपीजी बॉटलिंग प्लांट लगाने की स्वीकृति मिलने से यह शहर अब औद्योगिक हब Mirganj Industrial Hub के रूप में विकसित होने वाला है। यही नहीं मिल परिसर में कृषि आधारित उद्योग जैसे राइस मिल स्थापित होने से कृषि को भी बढ़ावा मिलेगा।

एलपीजी बॉटलिंग प्लांट सहित कई उद्योग लगाने को मिली है जमीन

जानकारी के अनुसार बंद पड़ी हथुआ चीनी मिल की जमीन को बियाडा ने अधिग्रहित किया है। यहां पर करीब 500 सौ हेक्टेयर भूमि खाली पड़ी है। इसमें 10 हेक्टेयर पर अत्याधुनिक राइस मिल लगने जा रही है। वहीं 40 एकड़ जमीन पर भारत पेट्रोलियम एलपीजी बॉटलिंग प्लांट लगाने की तैयारी में है। औद्योगिक हब के रूप में मीरगंज के विकसित होने से जिले वासियों में खुशी की लहर है। मीरगंज शहर सहित पूरे जिले का तेजी से विकास होगा। वहीं, मीरगंज के औद्योगिक हब बनने से यहां बड़े उद्योग एवं फैक्ट्रियों के स्थापित होने का रास्ता साफ हो गया है। उद्योग धंधे लगने से जिले के विकास में तेजी आएगी। वहीं कृषि आधारित उद्योग लगने से कृषि को भी काफी बढ़ावा मिलेगा, जिससे किसानों की स्थिति में भी सुधार आएगा।

105.29 एकड़ जमीन पर लगेंगे उद्योग बंद पड़ी हथुआ चीनी मिल ( Hathua Sugar Mill ) की 105.29 एकड़ जमीन सरकार ने बियाडा को दी है। इस जमीन पर छोटे व बड़े उद्योग लगने वाले है। इसमें बियाडा ने 38.65 एकड़ जमीन भारत पेट्रोलियम को दी है जिसमें एलपीजी बॉटलिंग प्लांट लगेगा। वहीं हरियाणा की एक पार्टी को राइस मिल के लिए 2 एकड़ जमीन दी गई है। जबकि प्लास्टिक पाइप, पेंट व कॉपी नोट बुक निर्माण के लिए 5 हजार स्क्वायर फीट जमीन उपलब्ध करायी गई है। छोटे उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए छोटे भूखंड भी प्रदान किए जा रहे हैं। बियाडा मीरगंज के प्रभारी असलम ने बताया कि हथुआ चीनी मिल क्षेत्र में उद्योग लगाने के लिए अब तक छोटे बड़े पांच उद्यमियों को जमीन उपलब्ध करायी गई है।

यहां उद्योग लगेंगे तो निश्चित रूप से क्षेत्र में लोगों के लिए रोजगार के अवसर बढ़ेंगे और विकास का रास्ता खुलेगा।