Health

here are 5 ayurvedic remedies to treat stomach pain know what should be avoided

[ad_1]

Ayurvedic Remedies To Treat Stomach Pain: आमतौर पर खान-पान में गड़बड़ी के कारण पेट दर्द की समस्या होने लगती है। यह समस्या कई बार नजरअंदाज करने पर काफी बढ़ भी जाती है, जिसकी वजह से पेट का दर्द असहनीय हो जाता है। ऐसे में आयुर्वेद में पेट दर्द ठीक करने के लिए कई असरदार नुस्खे बताए गए हैं। आइए जानते हैं उनके बारे में-
 
पेट दर्द के दौरान न करें इन चीजों का सेवन-
-पेट दर्द के दौरान अधिक मसालेदार भोजन करने से बचना चाहिए। यह आपके पाचन और पेट दर्द की समस्या को और अधिक बढ़ा सकता है। इसके अलावा मसालेदार भोजन ज्यादा खाने से सीने में जलन की समस्या भी हो सकती है।
-अगर आपके पेट में दर्द है तो आपको दूध नहीं पीना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि दूध से बने प्रोडक्ट्स को पचाना कठिन होता है।
– पेट दर्द होने पर चाय या कॉफी का सेवन एसिडिटी की समस्या को बढ़ा सकता है।
-पेट दर्द होने पर बीन्स का अधिक सेवन आपकी समस्या को और ज्यादा बढ़ा सकता है। 
-फास्टफूड्स आपका पेट खराब कर सकते हैं और इसकी वजह से आपके पेट दर्द की समस्या बढ़ सकती है।

आयुर्वेद के अनुसार पेट दर्द में राहत देंगी ये चीजें-
पेट दर्द का कारण अगर कब्ज, एसिडिटी या अपच है, तो ऐसे आहारों का सेवन करना चाहिए, जो आसानी से पच जाएं- जैसे- फल, सब्जियां, खिचड़ी, दाल का पानी आदि। इसके अलावा कुछ आसान आयुर्वेदिक नुस्खों से भी पेट दर्द की समस्या को खत्म किया जा सकता है।

-पेट दर्द होने पर घर पर ही दर्द निवारक आयुर्वेदिक चूर्ण बनाएं। इसके लिए भुना हुआ जीरा, काली मिर्च, सौंठ, लहसून, धनिया, हींग सूखी पुदीना पत्ती, सबकी बराबर मात्रा लेकर बारीक पीस लें। इसमें थोड़ा सा काला नमक भी मिलाएं। इस चूरन को खाने के बाद एक चम्मच थोड़े से गर्म पानी के साथ लें। इस चूरन से पेट दर्द कभी नहीं होगा और कब्ज की समस्या दूर हो जाएगी।

-पुदिने और नींबू का रस एक-एक चम्मच लें। अब इसमें आधा चम्मच अदरक का रस और थोडा सा काला नमक मिलाकर उपयोग करें। दिन में 3 बार इस्तेमाल करें, पेट दर्द में आराम मिलेगा।

-अदरक का रस एक चम्मच, नींबू का रस 2 चम्मच लेकर उसमें थोडी सी शक्कर मिलाकर प्रयोग करें। दिन में 2-3 बार ले सकते हैं। पेट दर्द में लाभ होगा। 

-छोटे बच्चों के पेट में दर्द होने पर एकदम थोडी सी हींग को एक चम्मच पानी में घोलकर पका लें। फिर बच्चे की नाभि के चारों लगा दें। कुछ देर बाद दर्द दूर हो जाता है।

[ad_2]

Source link