Health

ayurveda tips and exercise to improve eyesight ankhon ki roshani kaise tez karen

[ad_1]

आजकल हर किसी के हाथ में मोबाइल फोन है और ज्यादातर वक्त स्क्रीन पर खर्च होता है। बच्चे काफी वक्त ऑनलाइन रहते हैं वहीं खानपान भी ऐसा है कि छोटी सी उम्र में उनको चश्मा चढ़ जाता है। इसके अलावा बारिश के मौसम में भी आंखों से जुड़े कई इन्फेक्शंस होने का खतरा रहता है। आंखें काफी सेंसिटिव होती हैं इसलिए इनका खास ध्यान रखना चाहिए। हालांकि ज्यादातर लोग इनके लिए कोई खास एफर्ट नहीं करते। आयुर्वेद में कई ऐसे तरीके बताए गए हैं जो आंखों की रोशनी कम नहीं होने देते साथ ही इनफेक्शंस से भी बचाते हैं। यहां जानें कुछ टिप्स…

अपनाएं आयुर्वेद टिप्स

पुराने जमाने में बुजुर्ग लोग ही चश्मा लगाए नजर आते थे। आजकल छोटे-छोटे बच्चों की भी नजर कमजोर होने लगती है। आयुर्वेद डॉक्टर दीक्षा भावसार ने कुछ टिप्स अपने इंस्टाग्राम पेज पर शेयर किए हैं जो आपकी आंखों की रोशन और हेल्थ ठीक रखने में मददगार हो सकते हैं। 


ऑर्गेनिक गुलाब जल

आंखों में ऑर्गेनिक गुलाब जल डालें इससे आंखों की थकान दूर होगी और जलन या कोई और समस्या है तो उसमें भी राहत मिलेगी।

गाय का घी

गाय का घी सेहत के लिए काफी अच्छा होता है। इसे खाने से आखों की सेहत भी अच्छी रहती है। इसे आंखों या नथुनों  (नॉस्ट्रिल्स) में लगाना आंखों के लिए फायदेमंद होता है।

त्रिफला

त्रिफला तीन तरह के हर्ब्स का मिश्रण होता है। यह बाजार में मिलता है या इसे आप घर पर भी बना सकते हैं। यह आंखों के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसके अलावा यह पेट, त्वचा और बालों के लिए भी अच्छा होता है।

टहलें

रिफ्लेक्सोलॉजी साइंस के मुताबिक, जब हम टहलते हैं तो पैर की दूसरी और तीसरी उंगली पर सबसे ज्यादा प्रेशर होता है। इन दोनों में सबसे ज्यादा नर्व एंडिंग्स होती हैं। जब हम टहलते हैं, खासकर नंगे पैर तो आंखों की रोशनी तेज होती है।

आंखों की एक्सरसाइज

अगर आप कंप्यूटर पर काम कर रहे हैं तो हर आधे घंटे पर आंखें जल्दी-जल्दी झपकाने की आदत डालें। बीच-बीच में आंखें बंद करके ब्रेक लें। वहीं किनारों पर, ऊपर-नीचे, क्लॉकवाइज और ऐंटी क्लॉक वाइज आंखों को घुमाकर रोजाना 10 मिनट एक्सरसाइज करें। ये भी पढ़ें: आयुर्वेद: सौंफ, बादाम, मिश्री वाला दूध आंखों के लिए है चमत्कारी, ऐसे बनाएं

[ad_2]

Source link