Health

क्या है टिनिया वर्सिकलर? होम रेमेडीज से इस तरह पा सकते हैं छुटकारा

[ad_1]

हाइलाइट्स

टीनिया वर्सिकलर का इलाज शुरुआत से ही किया जाना जरूरी.
टीनिया वर्सिकलर होने पर स्किन को डाइड्रेट रखना जरूरी होता है.
ये फंगल इंफेक्‍शन टीनेजर्स को अधिक हो सकता है.

Home Remedies For Tinea Versicolor – स्किन पर लाल और सफेद दाग एक आम फंगल इंफेक्‍शन है जिसे टिनिया वर्सिकलर कहा जाता है. कई लोग सफेद दाग को देखकर परेशान हो जाते हैं जिस वजह से इंफेक्‍शन और अधिक ट्रिगर कर सकता है. ये एक सीजनल समस्‍या है जो अधिकतर मानसून में उभर सकती है. टिनिया वर्सिकलर ज्‍यादातर टीनएजर्स में देखने को मिलती है. इसका सही समय पर प्रॉपर इलाज न कराया जाए तो ये समस्‍या चेहरे के अलावा कंधे, छाती और पीठ तक फैल सकती है. कई मामलों में ये स्किन के कलर और टेक्‍सचर को पूरी तरह से डैमेज भी कर देती है. कई बार इसमें खुजली और सूखी पपड़ी भी निकलती है. वैसे तो टीनिया वर्सिकलर 1 से 2 हफ्ते में ठीक हो जाता है लेकिन कई बार ये लंबा भी चल सकता है. मेडिकल ट्रीटमेंट के अलावा इस समस्‍या को होम रेमिडी से भी ठीक किया जा सकता है. होम रेमिडी से स्किन को नमी मिलेगी और दाग आसानी से कम हो सकते हैं. चलिए जानते हैं टीनिया वर्सिकलर को ठीक करने के लिए किन होम रेमिडीज को अपनाया जा सकता है.

लोशन का करें प्रयोग
स्‍किन को स्‍मूथ और हाइड्रेट करने के लिए लोशन का प्रयोग करें. मेडिकल न्‍यूज टुडे के अनुसार टीनिया वर्सिकलर को क्‍योर करने के लिए होम रेमिडीज का प्रयोग किया जा सकता है. ज्‍यादातर मामलों में फंगल इंफेक्‍शन होने पर स्‍किन काफी ड्राई हो जाती है ऐसी स्थिति में उसे मॉइश्‍चराइज करना बेहद जरूरी होता है. प्रभावित स्‍किन पर नियिमित रूप से लोशन का प्रयोग किया जाना चाहिए. स्किन को जहां तक हो कॉटन के कपड़े से कवर करके रखें.

जिंक पाइरिथियोन सोप
जिंक पाइरिथियोन सोप का प्रयोग करने से स्‍किन के इंफेक्‍शन को कम किया जा सकता है. ये सोप मेडिकेटिड है जो फंगल इंफेक्‍शन को बढ़ने से रोकता है. साथ ही स्किन के ऊपर बनने वाली पपड़ी को कम करने में भी मदद करता है. इसका प्रयोग दिन में दो बार प्रभावित क्षेत्र में किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: कोरियन हेयर केयर रुटीन के लिए अपनाएं ये तरीके, बालों पर टिकेंगी सभी की नजरें

एलोवेरा जेल का करें प्रयोग
स्‍किन को स्‍मूथ और सॉफ्ट बनाने के लिए एलोवेरा जेल का प्रयोग किया जा सकता है. एलोवेरा जेल के नियमित प्रयोग से स्‍किन के दाग या धब्‍बों को कम करने में मदद मिलती है. एलोवेरा के साथ ऑर्गेनिक हल्‍दी का भी इस्‍तेमाल किया जा सकता है.

यह भी पढ़ेंः ग्रीन टी से ब्लड शुगर कंट्रोल करने में मिलती है मदद, स्टडी में हुआ खुलासा

शहद और चंदन का प्रयोग
शहद और चंदन के प्रयोग से स्‍किन में होने वाली ड्राइनेस और खुजली को कम किया जा सकता है. शहद में एंटी-बैक्‍टीरियल और एंटी फंगल गुण होते हैं जो इंफेक्‍शन को बढ़ने से रोकते हैं. शहद और चंदन के प्रयोग से स्किन स्‍मूथ बन सकती है.

Tags: Health, Home Remedies, Lifestyle, Skin care

[ad_2]

Source link