EducationFEATUREDLatest Bihar News

आइए पढ़े गोपालगंज का इतिहास

जाने गोपालगंज जिला कब बना, गोपालगंज की स्थापना कब हुई और गोपालगंज का पुराना नाम क्या है

Gopalganj Kab Bana, Gopalganj ka sthapna kab hua tha, Gopalganj ka purana naam kya hai

भारत में कुछ ऐसे भी जिले हैं जिन्होंने इतिहास (History) में अपना नाम बनाया है। ऐसे ही भारत के बिहार राज्य में एक गोपालगंज शहर है यह सारन मंडल (Saran Division ) का हिस्सा था । अक्टूबर  2, 1973 (02 October 1973) को सारण से अलग स्वतंत्र जिला बना गोपालगंज जिला (Gopalganj District ) का क्षेत्रफल 2033 वर्ग किलोमीटर है।

गोपालगंज सीमा क्षेत्र Gopalganj Border Area गोपालगंज कहां पर पड़ता है

गोपालगंज बिहार का सबसे अंतिम जिला है उत्तर बिहार का, ये उत्तर प्रदेश की सीमा से नजदीक है पूरब में चंपारण और गंडक नदी, दक्षिण में सीवान जिला और उत्तर पश्चिम में उत्तर प्रदेश के देवरिया जिला से घिरा है। गोरखपुर से गोपालगंज की दुरी 110 km है पटना से गोपालगंज जिला की दुरी142 km है गोपालगंज के लोग सिवान स्टेशन या गोरखपुर से दिल्ली मुंबई कोलकाता के लिए ट्रैन पकड़ते है

गोपालगंज जनसंख्या Gopalganj Population

Gopalganj ka total jansankhya kitni hai

यहां पर पुरुषों की संख्या एक करोड़ 2 लाख 67 हजार 666 है साथ ही साथ महिलाओं की जनसंख्या 1 करोड़ 29 लाख 4 हजार 346 है, जैसा कि यह जिला है जिसके कारण यहां पर शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्र आते हैं। यहां पर शहरी जनसंख्या 16 लाख दो हजार 805 है और ग्रामीण जनसंख्या 2 करोड़ 39 लाख नो हजार 207 है।

गोपालगंज एक ऐसा जिला है जहां पर लिंगानुपात महिलाओं का ज्यादा है यहां पर 1015 महिलाओं पर हजार पुरुष आते हैं यहां की साक्षरता दर 67 पॉइंट 0 4% है।

गोपालगंज का एसपी का नाम क्या है? Gopalganj ke SP Ka naam kya Hai

गोपालगंज के पुलिस अधीक्षक ( Gopalganj Superintendent of Police ) का नाम श्री स्वर्ण प्रभात है

गोपालगंज के वर्तमान डीएम कौन हैं? Gopalganj ke DM kaun Hai

गोपालगंज के जिला पदाधिकारी ( Gopalganj District Magistrate ) का नाम मो0 मकसूद आलम है

Gopalganj Subdivision, Block गोपालगंज में कितने विधानसभा है

विभाग: गोपालगंज ब्लॉक और नगर पालिका

गोपालगंज जिले में कितने ब्लॉक है? Gopalganj me Kitne Blog hai

यदि गोपालगंज जिले में देखा जाए तो 14 ब्लॉक चार नगर पालिका (Municipality) 234 गांव पंचायत आते हैं। गोपालगंज जिले में कुल 1566 कहां है यह गांव की संख्या दूसरे जिलों के मुताबिक ज्यादा है। वहीं अगर दूसरी ओर गोपालगंज जिले में शहर की बात की जाए तो यहां पर 4 शहरी क्षेत्र है यहां तीन नगर पंचायत और एक नगर परिषद हालांकि हाल ही में हथुआ भी एक शहरी क्षेत्र में गिना जाने लगा है जिससे यह गोपालगंज जिले का पांचवा शहरी क्षेत्र बन गया। पहले 4 ही शहरी क्षेत्र गिने जाते थे परंतु हथुआ शहर को नगर पालिका के अंदर नहीं गिना जाता है।

गोपालगंज शिक्षा (Gopalganj Education):

गोपालगंज में रहने वाले लोगों को अच्छी शिक्षा मिल सके इसके लिए गोपालगंज मे  बहुत से कॉलेजों और स्कूलों है जिसे सरकार द्वारा और निजी ट्रस्टों द्वारा चलाया जाता है। यहां पर हर तरह की सुविधाएं सरकार द्वारा उपलब्ध कराई जाती है। अधिकांश निजी स्कूलों में इंग्लिश मीडियम का माहौल है हालांकि सरकार द्वारा चलाई गई इंग्लिश और हिंदी दोनों स्कूल है। गोपालगंज में सैनिकों के बच्चों के लिए एकेडमी भी है यहां पर रक्षा एकेडमी में बच्चों को तैयार किया जाता है ताकि वह आने वाली फ्यूचर में देश की सेवा कर सके। यह स्कूल उन विद्यार्थियों के लिए 10वीं क्लास पास करके इस स्कूल में एडमिशन लेते  है। यहां पर हाई सेकेंडरी स्कूल भी बनाई गई है जहां पर साइंस कॉमर्स और आर्ट्स तीनों सब्जेक्ट उपलब्ध है।

गोपालगंज कॉलेज (Collage in Gopalganj)

गोपालगंज में ३ प्रमुख कॉलेज है कमला राय  कॉलेज, महेंद्र  महिला  कॉलेज, गोपेश्वर  कॉलेज  है।  यह जयप्रकाश विश्वविद्यालय से संबंध रखता है।  यह कॉलेज कला और विज्ञान के   डिग्री के लिए फेमस है। यहां छात्रों को ज्ञान और कौशल प्रदान करने के लिए विभिन्न शिक्षण और तकनीकों का पालन किया गया है।

साधन:

गोपालगंज जिला नेशनल हाईवे 28 से होकर गुजरता है यहां पर लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए कई तरह की बसें मिल जाती है यहां पर सिवान जंक्शन रेलवे स्टेशन है जो यहां का मुख्य रेलवे स्टेशन है यहां पर अन्य छोटे स्टेशन भी है जहां पर ग्रामीण इलाकों को जोड़ा गया है। यहां पर अगर हवाई अड्डों की बात की जाए तो यहां पर जयप्रकाश नारायण हवाई अड्डा पटना और महायोगी गोरखनाथ हवाई अड्डा गोरखपुर पास ही में पड़ता हैं।

पॉलिटिक्स पार्टी

बिहार अच्छे में कुछ पॉलिटिशन ऐसे थे जिनमें अपने दम पर अपनी पार्टी को आगे बढ़ाया अपने  दम से बिहार राज्य पर  राज किया था

लालू प्रसाद यादव ( Lalu prasad yadav )

 बिहार के मशहूर पॉलीटिशियन लालू प्रसाद यादव का नाम तो यह बिहार राज्य की सबसे पावरफुलपॉलिटिशन में से एक है।  इन्होंने बिहार राज्य में अपने  दम पर पार्टी को आगे बढ़ाया था यह बिहार के मुख्यमंत्री थे।  इन्होंने 1990 से 1997 तक बिहार के मुख्यमंत्री पद पर कार्य किया था।  

लालू प्रसाद यादव का जन्म (11 June 1948) बिहार में  गोपालगंज जिले  के फुलवरिया गांव में हुआ था।  यह यादव जाति की परिवार से संबंध रखते थे।  इन्होंने पटना विश्वविद्यालय से अपना कॉलेज पूरा किया था और राजनीति की शुरुआत इसी कॉलेज से की थी यह शुरुआती समय में छात्र संघ नेता हुआ करते थे।  फिर बाद में धीरे-धीरे उन्होंने  बिहार राज्य के मुख्यमंत्री पद को हासिल कर लिया।

Lalu Prasad Yadav

अब्दुल गफूर ( Abdul Ghafoor )

अब्दुल गफूर 2 जुलाई 1973 से लेकर 11 अप्रैल 1975 तक बिहार में राजनीतिक पद पर कार्य किया यह बिहार राज्य की 13 वे मुख्यमंत्री थे।  इन्होंने राजीव गांधी की सरकार के समय भी कैबिनेट मंत्री के रूप में भी कार्य किया था।  इनका जन्म गोपालगंज जिले में हुआ था।  एक छोटे गांव से बिलॉन्ग करते थे।  इनका परिवार खेती करता था।  इन्होंने अपनी शिक्षा गोपालगंज जिले से करें बाद में यह  पटना चले गए।  उन्होंने स्वतंत्रता संग्राम में भी सके रूप से भाग लिया इन्होंने जेल में जीवन यापन भी किया है।  इन्होंने स्वतंत्र आंदोलन में बिहार कांग्रेसी सरकार के प्रसिद्ध युवाओं के साथ भाग लिया।  जिसमें चंद्रशेखर सिंह भागवत झा आजाद केदार पांडेय राम केसरी शामिल थे।

पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi ) –

आज फ़िल्मी दुनिया में पंकज त्रिपाठी को कौन नहीं जानता है बिहार के गोपालगंज जिले के बेलसंड गांव में पैदा हुए अपने मेहनत के दम पर बॉलीवुड में सिक्का ज़माने वाले पंकज त्रिपाठी 2004 में रन मूवी के साथ कैर्रिएर शुरुआत किए अब तक ४० से ज्यादा  फिल्मे कर चुके है उन्हें Gang of Wasseypur से पहचान मिली उसके बाद पीछे मुड़ के नहीं देखा।  हम आपको उनके फिल्मो के नाम बता रहे है  फुकरे, मसान,  निल  बट्टे  सन्नाटा,  बरैली  की  बर्फी, न्यूटन आदि,    Sacred Games और Mirzapur से धूम मचा दी। 

पंकज तिपाठी अपने माता पिता के साथ

Gopalganj Map गोपालगंज बिहार का नक्शा

ऐसे ही देश दुनिया तथा गोपालगंज ( Latest Gopalganj News ) से जुड़ी ताजा खबरो की जानकारी के लिए हमारे साथ आईये और फालो कीजिए हमारे फेसबुक पेज को और जुड़े रहिये हमारे गोपालगंज समाचार ( Gopalganj Samachar ) साइट से।